लॉक डाउन 2.0

भीख मांग रहे नट परिवार; चेयरमैन ने दिया मदद का आश्वासन

सितारगंज के वार्ड न० 11 में छत्तीसगढ़ से आये नटों (कलंदर) के तीन परिवार लॉक डॉउन में फंस गए है। अभी तक किसी स्थानीय प्रतिनिधि या प्रशासन द्वारा इन तक कोई मदद अथवा राहत सामग्री नहीं पहुँच सकी है।

गरिमा दसौनी के सीएम से तीखे सवाल

अपने ट्विटर हैंडल पर ट्वीट करते हुए एक विडियो द्वारा गरिमा ने राज्य सरकार पर प्रवासी उत्तराखंडियों को दूसरे प्रदेश से निकालने की कार्यशैली पर सवाल उठाए हैं।

बड़ा सवाल – क्या ग्रीन ज़ोन में रह सकेगा पौड़ी?

हालांकि ज़िला प्रशासन वापिस आने वाले लोगों के लिए पहले से ही तैयार है मगर देखना यह होगा की शुरू से ही ग्रीन जोन में रहने वाला पौड़ी क्या आने वाले दिनों में भी खुद को सुरक्षित रख पता है या नहीं?

छात्रों ने बनाया सोशल मीडिया को हथियार

बीएड के ये छात्र-छात्राएं ऑनलाइन पोस्टर, बैनर और कार्टून बनाकर लोगों को लॉक डाउन का पालन करने और कोरोना संक्रमण से बचने के लिए सचेत कर रहे हैं।

कोरोना वॉरियर: गढ़वाल विश्वविद्यालय के कुलसचिव

गढ़वाल विश्वविद्यालय के कुलसचिव डॉ एके झा दिल्ली स्थित अपने आवास पर मिर्ची फाउंडेशन के साथ मिलकर मजदूर वर्ग के 150 से अधिक लोगों को निःशुल्क भोजन करा रहे हैं।

पूर्व-प्रधान पर लॉक डाउन का उल्लघंन करने पर मुकदमा दर्ज

पंचायत की जानकारी पुलिस को जैसे ही मिली, वो मौके पर पहुंच गयी। मौक़े पर किसी ने भी कोई मास्क नहीं पहना हुआ था और लॉक डॉउन की खुलेआम धज्जियां उड़ाई जा रही थी।

एसडीआरएफ की कोशिश: प्रयागराज से लौटे 75 छात्र

सभी छात्रों की थर्मल स्क्रीनिंग की जा चुकी है। स्वास्थ्य विभाग से मिले निर्देशों के अनुसार ही सुरक्षा के मद्देनजर छात्रों को होम और इंस्टिट्यूशनल क्वारेन्टीन किया जाएगा।

भगवानपुर: पुलिस के जवान की गुंडागर्दी

जहाँ हर छोटी बड़ी समस्या के लिए हम पुलिस की ओर मदद की उम्मीद लगा कर देखते हैं, वहीं अगर पुलिस के जवान ही सरेआम गुंडागर्दी दिखायें तो आम जनता कहाँ जाए?

भगवानपुर: लॉकडाउन उल्लंघन पर प्रशासन की पैनी नज़र

कुछ दिन पहले भगवानपुर विधान सभा क्षेत्र के मानक माजरा गांव से सलीम नामक युवक दिल्ली हज़रत निज़ामुद्दीन मरकज़ गया था, जिसको बाद में कोरोना पॉजिटिव पाया गया। इसके चलते पूरे गांव को सील कर दिया गया है।