भीख मांग रहे नट परिवार; चेयरमैन ने दिया मदद का आश्वासन

सितारगंज के वार्ड न० 11 में छत्तीसगढ़ से आये नटों (कलंदर) के तीन परिवार लॉक डॉउन में फंस गए है। अभी तक किसी स्थानीय प्रतिनिधि या प्रशासन द्वारा इन तक कोई मदद अथवा राहत सामग्री नहीं पहुँच सकी है।

रिपोर्ट: चरनसिंह

ख़ास बात:

  • लॉकडाउन के चलते फंसे 3 नट परिवार
  • ऊधमसिंहनगर में फंसे 3 नट परिवार
  • भीख मांग कर गुज़र-बसर कर रहे
  • नहीं पहुंची कोई मदद अथवा राहत सामग्री

सितारगंज, ऊधमसिंहनगर: कोरोनाकाल मानो कई बेसहरा ग़रीब लोगों को तो काल सा प्रतीत होता होगा। महामारी से जूझते उन लोगों का सोचिये जो लॉक डॉउन में पह्नसे हुए हैं और घरों से दूर हैं।

दुसरे प्रदेशों में फंसे बाहरी व गरीब मजदूर परिवारों को मुख्यमंत्री राहत कोष से मुफ्त राशन बाँटा जा रहा है। पर बहुत से लोगों तक ये मदद भी नहीं पहुँच पा रही है। सितारगंज के वार्ड न० 11 में छत्तीसगढ़ से आये नटों (कलंदर) के तीन परिवार लॉक डॉउन में फंस गए है। अभी तक किसी स्थानीय प्रतिनिधि या प्रशासन द्वारा इन तक कोई मदद अथवा राहत सामग्री नहीं पहुँच सकी है।

भूख और बदहाली का आलम ये की उन परिवारों के बच्चों को नगर में भीख मांगकर गुजर बसर करना पड़ रहा है। इस बात का जब नगरपालिका सितारगंज के चेयरमैन हरीश दुबे व वार्ड नं० 5 के सभासद रवि रस्तोगी को पता लगा तो उनके द्वारा तीनो परिवारों को मौके पर जाकर देखा गया व राशन दिलवाने का आश्वासन दिलवाया गया।

 

Leave a Reply

ये भी पढ़ें