भगवानपुर: पुलिस के जवान की गुंडागर्दी

जहाँ हर छोटी बड़ी समस्या के लिए हम पुलिस की ओर मदद की उम्मीद लगा कर देखते हैं, वहीं अगर पुलिस के जवान ही सरेआम गुंडागर्दी दिखायें तो आम जनता कहाँ जाए?

रिपोर्ट: मुरसलीन अल्वी

ख़ास बात:

  • पुलिस के जवान की गुंडागर्दी
  • मास्क न लगाने पर पीटा सफ़ाईकर्मी को
  • पैर में चोट के कारण जा रहा था बाइक से सफाईकर्मी
  • बेरहमी से की सफाईकर्मी की पिटाई

भगवानपुर: जहाँ देश एक घातक बीमारी से जूझते हुए एक कठिन दौर देख रहा है, हालत तब और मुश्किल हो जाते हैं जब प्रशासन की बदसलूकी सामने आ जाती है। जहाँ हर छोटी बड़ी समस्या के लिए हम पुलिस की ओर मदद की उम्मीद लगा कर देखते हैं, वहीं अगर पुलिस के जवान ही सरेआम गुंडागर्दी दिखायें तो आम जनता कहाँ जाए?

दअरसल पूरा मामला भगवानपुर नगर पंचायत के सफाईकर्मी के साथ मार पीट का है। आपको बता दें कि नवजोत चौहान नाम के पुलिस जवान ने सफाई कर्मी मोनू कुमार को महज़ इसलिए पीटा की सफाईकर्मी के पैर में पहले से ही चोट लगी हुई थी जिसके चलते मोनू कुमार सफाई करने के लिये मोटरबाइक से गली-मोहल्ले में जा रहा था और जल्दबाज़ी के चलते मास्क लगाना भूल गया।

फिर क्या था पुलिस के जवान ने न आव देखा और न ताव और बेहरहमी से सफाईकर्मी को लाठी से पीट डाला। पीड़ित बार बार चीखता रहा कि साहब में नगरपंचायत भगवानपुर में सफाईकर्मी हूँ और गलियों में सफाई करने के लिऐ जा रहा हूँ। लेकिन बेदर्द पुलिस के जवान ने सफाईकर्मी की एक न सुनी।

इसके बाद सफाईकर्मी ने अपने अधिकारियों को सूचना दी। और अपने सभी साथियों को साथ लेकर मेन मार्किट के चौराहे पर ही सारा कूड़ा  डाल कर धरने के लिए जा पहुंचे। घटना की जानकारी थाना अध्यक्ष संजीव थपरियाल को मिली तो थानाअध्यक्ष ने मौके पर पहुँच कर मामले को सँभालने की कोशिश की।

भाजपा के प्रदेश महामंत्री सुबोध राकेश ने भी मौके पर पहुँच कर घटना का जायज़ा लिया और पुलिस के जवान व सफाईकर्मी को नगरपंचायत के कार्यालय बुलाकर समझौता करा दिया। और सफाईकर्मियों को तत्काल प्रभाव से वापस काम पर जाने को कहा। वही अगर बात सूत्रों की माने तो सूत्रों का कहना है कि न्यू मार्किट के चौराहे पर 2 पुलिस के जवान तैनात है, जो कि आने जाने वाले लोगो को बेवजह पीटते हैं। और गाली गलौच का व्यहवार भी करते है। जिसके चलते ग्रामीणों ने इस कि शिकायत कई बार आलाधिकारियों से भी की लेकिन इन पुलिस वालों  के इस दुर्व्यवहार की कोई भी सुध लेने को तैयार नहीं है। अब ऐसे सिर-फिरे जवान पर क्या कार्यवाही होगी, ये तो वक़्त ही बताएगा। पर कानून की रक्षा करते करते अगर कानून के रक्षक ही कानून तोड़ने लगें तो क्या किया जाए।

Leave a Reply

ये भी पढ़ें