1977 के बाद बाबा केदार की डोली इस बार गई वाहन से

बाबा केदार की डोली आज रात्रि गौरीकुण्ड में विश्राम कर कल पैदल मार्ग से भीमबली पहुंचेगी। इसके बाद 28 अप्रैल को बाबा की डोली केदारनाथ पहुंचेगी और 29 अप्रैल प्रातः छह बजकर दस मिनट पर बाबा केदार के कपाट खोले जाएंगे।

खास बात:

  • ऊखीमठ से हुई बाबा केदार की डोली रवाना
  • कल गौरीकुंड से भीमबली पहुचेगी बाबा की डोली
  • आज 5:40 पर ऊखीमठ ओम्कारेश्वर मंदिर से हुई रवाना
  • 29 अप्रैल को खुलेंगे केदारनाथ के कपाट

रुद्रप्रयाग: अपने शीतकालीन गद्दीस्थल ओंकारेश्वर मंदिर, ऊखीमठ में प्रवास करने के बाद बाबा केदार की पंचमुखी चल विग्रह उत्सव डोली आज सुबह साढ़े 5:40 केदारनाथ धाम के लिये रवाना हो गई। बाबा केदार की डोली आज रात्रि गौरीकुण्ड में विश्राम कर कल पैदल मार्ग से भीमबली पहुंचेगी। इसके बाद 28 अप्रैल को बाबा की डोली केदारनाथ पहुंचेगी और 29 अप्रैल प्रातः छह बजकर दस मिनट पर बाबा केदार के कपाट खोले जाएंगे।

गौर तलब है कि इस बार बाबा केदार की डोली गौरीकुण्ड तक वाहन से गई। कोरोना के संकट के चलते इस बार सभी विधि विधान बेहद सादगी के साथ किये जा रहे हैं । इससे पहले सन 1977 में बाबा केदार की डोली गाड़ी से गयी थी।

Leave a Reply

ये भी पढ़ें