ख़ास बात:

  • गंगोत्री-यमुनोत्री धाम के कपाट वैदिक मंत्रोच्चार के साथ खोले गए
  • अक्षय तृतीया के पावन पर्व पर खुले गंगोत्री-यमुनोत्री के कपाट
  • सोशल डिस्टेंसिंग के पालन के साथ हुई पूजा अर्चना
  • प्रथम पूजा का श्रेय देश के प्रधानमंत्री को दिया

गंगोत्री-यमुनोत्री, उत्तरकाशी: विश्व प्रसिद्ध गंगोत्री धाम के कपाट रविवार को अक्षय तृतीया के शुभ मुहूर्त में वैदिक मंत्रोच्चार के साथ खोल दिए गए। इस दौरान सोशल डिस्टेंसिंग के अनुपालन का विशेष ध्यान रखा गया। माँ गंगा के मंदिर के कपाट रोहिणी अमृत योग की शुभ बेला पर दोपहर 12 बजकर 35 मिनट पर खोले गए।

इससे पूर्व कल शनिवार को मां गंगा की डोली उनके मायके और शीतकालीन प्रवास मुखबा से भैरव घाटी के लिए रवाना हुई थी।

ये भी पढ़ें: माँ गंगा की डोली चली गंगोत्री धाम को

उधर यमुनोत्री घाटी में भी यमुनोत्री मंदिर धाम के कपाट सादगी के साथ 12. 41 पर खोल दिये गये। गंगोत्री धाम के कपाट खुलने पर प्रथम पूजा का श्रेय देश के प्रधामनंत्री नरेन्द्र मोदी को दिया। अक्षय तृतीया के पावन पर्व पर गंगा पूजन, गंगा सहस्त्रनाम पाठ एवं विशेष पूजा अर्चना के बाद वैदिक मंत्रोच्चारण के साथ रोहिणी अमृत योग की शुभ बेला पर कपाट खोले गए ।

अगले छः माह गंगोत्री धाम के कपाट दर्शनार्थ खोल दिए गए हैं। इस बार कोरोना संकट के बीच बिना श्रद्धालुओं के ही कपाट खोले गए।

Leave a Reply