पौड़ी: प्रसिद्ध क्यूंकालेश्वर महादेव मंदिर के पट भय के बीच खुले देरी से

मंदिर के महंत ने बताया कि कोरोना के इस दौर में जहां कोरोना का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है, ऐसे में मंदिरों के खोलने का सरकार द्वारा लिया गया निर्णय जल्दबाजी ही है।

पौड़ी: सरकार की गाईडलाईन के तहत अनलाॅक फेस वन में धार्मिक स्थलों को भक्तों के लिये खोल तो दिया गया है लेकिन पौड़ी में तमाम धार्मिक स्थलों के मंहत व पुजारियों कोे कोरोना महामारी फैलने का डर बुरी तरह से सता रहा है।

इस डर के बीच जैसे-तैसे मंदिर के पट भक्तों के लिये भयावह माहौल में खोले गये हैं। धार्मिक स्थल के महंतों की माने तो मंदिरों को खोलने के निर्णय पर सरकार ने जल्दबाजी दिखाई है जिससे ये महामारी अब और फैल सकती है।

कई धार्मिक स्थलों के महंत तो इतने डरे हुए हैं कि अब मंदिर छोड़कर जाने का निर्णय भी ले रहे हैं। दरअसल आज 7 बजे मंदिरों के पट भक्तों के लिये पौड़ी में खुलने थे लेकिन पौड़ी के प्रसिद्ध क्यूंकालेश्वर महादेव के मंदिर के दरवाज़े 9 बजे तक भी डर के साये में नहीं खुले।

इसके बाद जब मीडियाकर्मियों ने मंदिरों का जायज़ा लिया तब कहीं जाकर डर के साये में इन मंदिरों के किवाड़ खोले गये। इस मंदिर के महंत मुनि अभिचेतनेय ने बताया कि कोरोना महामारी के इस दौर में जहां कोरोना का आंकड़ा लगातार बढ़ रहा है, ऐसे में मंदिरों के खोलने का सरकार द्वारा लिया गया निर्णय जल्दबाजी ही है।

मंदिरों में तमाम भक्त दर्शन को आयेंगे ऐसे में इस संक्रमण के फैलने का खतरा अब और बढ़ जायेगा। वहीं मंदिर में स्टाफ न होने से भी इन व्यवस्थाओं को पटरी पर किस तरह से लाया जायेगा ये असंमजस भी बना हुआ है।

जिलाधिकारी पौड़ी ने बताया कि मामला उनके संज्ञान में आया है, जिस पर उपजिलाधिकारी पौड़ी को सभी व्यवस्था करने के निर्देश दे दिए गए है।

Leave a Reply

ये भी पढ़ें