पौड़ी | ख़बर का असर, मिलेगा हिमांशु ओर यशवंत को ‘आधार’

मामले का संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी पौड़ी धीराज सिंह गर्ब्याल ने तत्परता के साथ संबंधित अधिकारियों को आधार कार्ड बनाने व तमाम योजनाओं का लाभ इन दिव्यांगों को देने के आदेश जारी कर दिए हैं।

 

पौड़ी | पाबौ ब्लॉक के अंतर्गत आने वाले बरशिला गांव की देवेश्वरी देवी की कहानी हमने आपको कल दिखाई थी। न्यूज़ स्टूडियो की ओर से हम ज़िलाधिकारी पौड़ी का धन्यवाद् करते हैं जिन्होंने देवेश्वरी देवी की समस्या का तुरंत निवारण करते हुए जल्द से जल्द पाबौ में एक आधार कैंप लगवाने के निर्देश जारी किये हैं जिससे दोनों दिव्यांगों के आधार कार्ड उनके गाँव में ही बन सकें।

आपको बता दें कि पाबौ ब्लॉक के अंतर्गत आने वाले बरशिला गांव की देवेश्वरी देवी के दो दिव्यांग बेटे – हिमांशु ओर यशवंत का सालों बीत जाने के बाद भी अब तक आधार कार्ड नहीं बन पाया है। इन दोनों दिव्यांगों को लेकर उनकी मां देवेश्वरी देवी कई बार सतपुली आधार सेंटर जा चुकी है, मगर न तो सेंटर में इनका फिंगर प्रिंट निकल पा रहा है और ना ही आँखों के नमूने जिसके कारण 20 साल बाद भी यह दोनों दिव्यांगों के लिए राज्य सरकार और केंद्र सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं से अछूते ही हैं।

पढ़ें पूरी खबर: पौड़ी | दिव्यांग बेटों की मां ने लगाई मदद की गुहार

ये विडियो भी ज़रूर देखें: न्यूज़ स्टूडियो विशेष | महाकुम्भ 2021 – कितना तैयार हरिद्वार?

परिवार की ज़िम्मेदारी अपने कन्धों पर उठाये देवेश्वरी देवी अब इन तीनों की देखरेख कर रही है और इनकी आमदनी का साधन भी कुछ नही है। देवेश्वरी बताती हैं कि राशन कार्ड में इनका नाम न होने कारण राशन डीलर भी इन्हें राशन नहीं दे रहे हैं। जिसके कारण इनके परिवार को खाने की समस्या से भी रूबरू होना पड़ रहा है।

महाकुम्भ 2021 – क्यों है अलग अन्य महाकुम्भों से?

मामले का संज्ञान लेते हुए जिलाधिकारी पौड़ी धीराज सिंह गर्ब्याल ने तत्परता के साथ संबंधित अधिकारियों को उनके गांव में जाकर आधार कार्ड बनाने व तमाम योजनाओं का लाभ इन दिव्यांगों को देने के आदेश जारी कर दिए हैं। अब उम्मीद की जानी चाहिए कि पिछले कई सालों से सरकारी योजनाओं का आधार कार्ड ना होने के कारण लाभ न मिलने से परेशान ये परिवार आने वाले कुछ दिनों में सभी योजनाओं से लाभान्वित हो सकेगा।

यमकेश्वर | भविष्य के सैनिकों के संकट मोचक बनकर सामने आये सुदेश भट्ट

Leave a Reply