ज़मीन पर सोने को मजबूर मासूम बच्ची की सर्पदंश से मृत्य

बेतालघाट में खण्डहरों में क्वारन्टीन किये गए लोगों को खासी दिक्कतें झेलनी पड़ रही हैं। चार वर्षीय मासूम बच्ची की मौत प्रशासन की व्यवस्था पर सवाल खड़े करती है।

ख़ास बात:

  • जर्जर हालत के खण्डहर में क्वारनटीन थी बच्ची
  • सेंटर में ज़मीन पर सोने के लिए मजबूर सभी लोग
  • बच्ची को डसा ज़हरीले सांप ने
  • प्रशासन की अव्यवस्था के चलते जान से गयी मासूम

नैनीताल: नैनीताल जिले के बेतालघाट में तल्ली सेठी के खण्डहर बन चुके विद्यालय में क्वारन्टीन चार वर्षीय मासूम बच्ची की मौत की दुखद खबर सामने आई है।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक बेतालघाट के क्वारन्टीन में रह रहे सभी लोग ज़मीन पर सोने को मजबूर थे, कि अचानक एक सांप ने बच्चे को डस लिया ।

आननफानन में बच्ची को बेतालघाट विकास खंड मुख्यालय स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र उपचार के लिए ले गये, बच्ची को लेकर अस्पताल पहुंचने तक बच्ची की हालत नाज़ुक हो गयी थी और तुरंत इलाज के लिए आवश्यक दवाइयां और इंजेक्शन लगाए गए , पर 15 मिनट के अंदर ही बच्ची ने दम तोड़ दिया।

आपको बता दें कि अभी कुछ ही दिन पहले ये लोग दिल्ली से आये थे, और तभी से विद्यालय में बने क्वारन्टीन सेंटर में रह रहे थे। बच्ची की मौत से क्षेत्र में हड़कंप मच गया है और जिला प्रशासन की व्यवस्थाओं की भी कलई खुल गयी है।

गौरतलब है कि बेतालघाट में खण्डहरों में क्वारन्टीन किये गए लोगों को खासी दिक्कतें झेलनी पड़ रही हैं, खण्डरों को हालात भी खस्ता है वहां पिछले चार दिनों से सांप भी निकल रहे हैं, दो सांपो को तो मार दिया गया था वही दो सांप अब भी खण्डर के अंदर ही बताए जा रहे हैं।

इसके अलावा वहां शाम होते ही जंगली जानवरो का भी खतरा बना रहता है। इन सभी दिक्कतों के बारे में दिल्ली से आये परमानन्द आर्य ने पुलिस को भी बताया था, जिसके बाद एसओ हरेंद्र सिंह ने टीम के साथ जाकर प्रधान और गांव वालों को समझाया , उसके बाद प्रवासियों को उनके घर पर ही होम क्वारन्टीन किया गया।

Leave a Reply

ये भी पढ़ें