नोएडा | फिल्म सिटी बनाने के लिए अमेरिका-अबूधाबी की कंपनियां आई सामने

साल 2024 तक फिल्म सिटी प्रॉजेक्ट पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है।

फिल्म सिटी
  • फिल्म सिटीनोएडा में फिल्म सिटी बनाने के लिए अमेरिका-अबूधाबी की कंपनियां आई सामने
  • सुभाष घई और एकता कपूर की कंपनियां भी दिख रही दिलचस्पी

नोएडा । यमुना अथॉरिटी के सेक्टर-21 में फिल्म सिटी बनाने की तैयारी चल रही है। फिल्म सिटी को बनाने के लिए अमेरिका, अबूधाबी सहित सुभाष घई और एकता कपूर की कंपनियां भी दिलचस्पी दिखा रही हैं। जहां अमेरिका-अबूधाबी की कंपनियों ने टेंडर फार्म खरीदे हैं, वहीं घई और एकता कपूर की कंपनियों ने अभी जानकारी मांगी है।

यमुना अथॉरिटी के अफसरों के अनुसार अभी तक तीन कंपनियों ने टेंडर फार्म खरीदे हैं,तब 16 कंपनियों ने फिल्म सिटी से जुड़ी जानकारियां मांगी हैं। निर्माण के लिए ग्लोबल टेंडर निकाले गए हैं। 13 अप्रैल को साफ होगा कि कौनसी कंपनी फिल्म सिटी का निर्माण करेगी।

स्टूडियो, रिटेल मॉल,फिल्म इंस्टिट्यूट, इंफ्रास्ट्रक्चर, होटल रेस्तरां, बैकलॉट सेट, एम्यूजमेंट पार्क, आवासीय मकान, ऑफिस, बैकलॉट वर्क शॉप, बैकलॉट ओपन एरिया, विला बनाए जाएंगे। हाईटेक सुविधाओं से लैस होगी फिल्म सिटी जिसमें तकरीबन 5,500 करोड़ का खर्च आएगा। नोएडा सीईओ यमुना अथॉरिटी ने बताया कि साल 2024 तक प्रॉजेक्ट कंपीट करने का लक्ष्य रखा गया है। कमेटी ने निर्णय लिया है, कि पहले फेज़ में फिल्म सिटी का निर्माण हो ना कि कमर्शियल विलास और अन्य चीजें, फ़िल्म से जुड़ी गतिविधियों को संचिलित किया जाए बाद में उससे जुड़ी अन्य गतिविधियां शुरू होगी।

यमुना अथॉरिटी के सीईओ डॉ.अरुण वीर सिंह ने जानकारी देकर बताया कि फिल्म सिटी को हाइब्रिड मॉडल विकसित किया गया है। इसके तहत फिक्स्ड रेवन्यू का हर साल 5 फीसदी ग्रोथ रहेगा।रेवन्यू जनरेट होने पर उसमें प्रीमियम या रेवेन्यू शेयर जो ज्यादा होगा, वहां अथॉरिटी को मिलेगा। प्रोजेक्ट की कॉस्ट 30-40 वर्ष में लागत निकलेगी,कंसेशन पीरियड भी 40 वर्ष से ज्यादा का रहेगा।दुनिया की जानी-मानी सलाहकार कंपनी सीबीआरई ने फिल्म सिटी की डीपीआर तैयार की है।

सूत्रों के अनुसार सीबीआरई ने यमुना अथॉरिटी को 15 खास प्रोजेक्ट सुझाए हैं। उसके मुताबिक हॉलीवुड की तर्ज पर बनने वाली फिल्म सिटी के लिए स्टेट ऑफ आर्ट स्टूडियो, आउटडोर सेट और शूटिंग विलेज बनाया गया। पोस्ट प्रोडक्शन के क्षेत्र में वीएफएक्स स्टूडियो बनाए जाएंगे।

फिल्म सिटी में एडिटिंग स्टूडियो, म्यूजिक डबिंग स्टूडियो बनेगा। फिल्म प्रीमियर और फिल्म फेस्टीवल के लिए खास आयोजन स्थल होगा। फिल्म एकेडमी बनाने की भी जरूरत होगी। इसके साथ ही पंचतारा होटल, डारमेट्री, रिटेल शॉप, रेस्टोरेंट और मनोरंजन पार्क भी बनेगा। साथ ही लोगों को फिल्मों का इतिहास बताने और दिखाने के लिए एक म्यूजियम बनाने की भी जरूरत होगी।

%d bloggers like this: