पुलवामा शहीदों के आँगन की मिट्टी का स्मारक

महाराष्ट्र के औरंगाबाद निवासी उमेश गोपीनाथ जाधव की इस कोशिश ने सब का दिल छू लिया। जाधव ने पुलवामा में शहीदों का स्मारक बनाने के लिए वीर शहीदों के घर जा कर उनके आंगन की मिट्टी एकत्रित की है जिसके लिए उन्होंने 61,000 किलोमीटर की यात्रा की।

देहरादून: शहीदों की याद संजोने को, वीरों की अनमोल शहादत का मोल समझाने को, जन-मन में देशभक्ति का जज़्बा जगाने को – 61,000 किलोमीटर की यात्रा कर पुलवामा के शहीदों के आँगन की मिट्टी इकट्ठी कर उनकी याद में स्मारक बनाने का प्रयास बेहद भावनात्मक है।

महाराष्ट्र के औरंगाबाद निवासी उमेश गोपीनाथ जाधव की इस कोशिश ने सब का दिल छू लिया। जाधव ने पुलवामा में शहीदों का स्मारक बनाने के लिए वीर शहीदों के घर जा कर उनके आंगन की मिट्टी एकत्रित की है जिसके लिए उन्होंने 61,000 किलोमीटर की यात्रा की। बीते बुधवार वो राजधानी देहरादून में पुलवामा शहीद मोहनलाल रतूड़ी के परिवार से भी मिले।

उमेश जाधव के इस प्रयास की जहाँ हर ओर सराहना हो रही है, वहीं उनकी इस मुहिम के लिए सीआरपीएफ द्वारा उनका सम्मान भी किया जाएगा।

जाधव का कहना है कि देश का एक ज़िम्मेदार नागरिक होने के चलते उनकी ये कोशिश है क्योंकि शहीद और शहादत देश के गर्व है और इन परिवारों ने जो बलिदान दिया है वो हम लोगों के लिए दिया है। यही कारण है कि उन्होंने 28 राज्यों की 9 यूनिटों से शहीद जवानों के घर की मिट्टी से भारत का एक मानचित्र तैयार किया जाएगा जो हम सब की एकता का प्रतीक होगा और हमें देश के प्रति कुछ करने के लिए जागरूक भी करेगा। जाधव के अनुसार वे सिर्फ 9 हजार रुपये लेकर घर से निकले थे पर लोगों के सहयोग से ये यात्रा करने में सफल हो पाए।

Leave a Reply