एम्स ऋषिकेश

आखिर जीती जंग महिला चिकित्सक ने – एम्स ऋषिकेश से डिस्चार्ज

अस्पताल से डिस्चार्ज हुई चिकित्सक का कोविड पॉजिटिव मरीजों के लिए संदेश है कि कोरोना से घबराने की नहीं बल्कि अपनी आत्मशक्ति पर विश्वास करने की जरूरत है।

आखिर किस वजह से हुए सतपाल महाराज के परिवारीजन दोबारा भर्ती?

बीते सोमवार शाम डिस्चार्ज किए गए पर्यटन मंत्री के पांच परिजनों को एम्स अस्पताल में दोबारा एडमिट किया गया है। अस्पताल प्रशासन के अनुसार होम क्वारनटीन की समुचित व्यवस्था नहीं होने के चलते ऐसा किया गया।

अपडेट: कोरोना संक्रमित महिला की मृत्यु; कोरोना नहीं मृत्यु का कारण

उत्तराखण्ड में कोरोना संक्रमण से 56 वर्षीय महिला की मौत हो गई है। राज्य में कोरोना संक्रमण से मौत का यह पहला मामला है। इस महिला का एम्स ऋषिकेश में न्यूरोसर्जरी विभाग में इलाज चल रहा था।

एम्स ऋषिकेश में न्यूरोपेशेंट में कोविड-19 की पुष्टि पर हड़कंप

अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान, ऋषिकेश में भर्ती न्यूरो पेशेंट नैनीताल निवासी एक महिला में कोविड-19 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। एम्स प्रशासन के मुताबिक एम्स में 22 अप्रैल से भर्ती एक महिला का यहां आईसीयू में उपचार चल रहा है।