पौड़ी ज़िले का पहला पिरूल प्रोडक्शन हाउस जल्द ही

सूबे के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अति महत्वाकांक्षी योजनाओं में शुमार पिरूल योजना अब धरातल पर अपनी रूपरेखा तैयार करने लगी है।

 

पौड़ी: सूबे के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत की अति महत्वाकांक्षी योजनाओं में शुमार पिरूल योजना अब धरातल पर अपनी रूपरेखा तैयार करने लगी है। इस योजना के तहत पौड़ी जिले में इसका पहला प्रोडक्शन हाउस जल्द ही धरातल पर दिखाई देने लगेगा।

मुख्यमंत्री की इस महत्वकांक्षी योजना के तहत पिरूल (चीड की सूखी पत्तियां) से कोयला, बिजली, तेल, खाद, कारपेट जैसी वस्तुओं का निर्माण किया जाना है। यह योजना मुख्यमंत्री की घोषणाओं के साथ-साथ महत्वकांक्षी योजना में भी शुमार रही है जो अब धरातल पर अपना रूप लेने लगी है।

जिले के पाबौ ब्लॉक में इसका पहला प्रोडक्शन हाउस जल्द ही तैयार होने जा रहा है जिसके बाद इसमें पिरूल के माध्यम से बहुत सी चीजें बनाई जाएंगी। जंगलों से पिरूल को इक्कट्ठा करने के लिए ग्राम प्रधान द्वारा एक समूह को भी इसकी जिम्मेदारियां दे दी गई है। इस समूह में 16 महिलाएं हैं जो आजकल जंगलो से पिरूल को इक्कट्ठा कर रही हैं।

महिलाओं का कहना है कि प्रदेश सरकार की यह बहुत ही अच्छी योजना है जिससे बिजली उत्पादन के साथ-साथ कोयला, चादर जैसी चीजों का उत्पादन भी जिले में आसानी से किया जा सकेगा। इसके साथ ही स्थानीय लोगों को भी आसानी से उनके ही क्षेत्रों में ही रोजगार उपलब्ध हो जाएगा।

ग्राम प्रधान का कहना है कि ये जिले का पिरूल से बनने वाली वस्तुओं का पहला प्रोडक्शन हाउस है जिसके माध्यम से बिजली उत्पादन, तेल उत्पादन, कोयला उत्पादन, खाद जैसे प्रोडक्ट इसके माध्यम से बनाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि ट्रायल के तौर पर एक समूह को अभी इसकी जिम्मेदारी दी गई है मगर जिस हिसाब से प्रोडक्शन का कार्य आगे बढ़ेगा तो अन्य समूहों को भी इसके माध्यम से रोजगार से जोड़ा जाएगा।

Leave a Reply

ये भी पढ़ें