पौड़ी की बेटी के लिए इन्साफ की गुहार, अब तक नहीं कोई सुनवाई

ज़िले की एक विवाहित युवती ज्योति की दहेज उत्पीड़न के चलते हत्या के आरोपियों को पुलिस पकड़ नहीं पायी है जिसके बाद परिजन अब मुख्यमंत्री से न्याय की गुहार लगा रहे हैं।

 

पौड़ी: ज़िले की एक विवाहित युवती ज्योति की दहेज उत्पीड़न के चलते हत्या के आरोपियों को पुलिस पकड़ नहीं पायी है जिसके बाद परिजन अब मुख्यमंत्री से न्याय की गुहार लगा रहे हैं। युवती के परिजनों ने जिला प्रशासन के माध्यम से मुख्यमंत्री को पत्र भेजकर दोषियों को पकड़वा कर उन्हें फांसी की सजा दिलवाने की मांग की है।

ये भी पढ़ें: दहेज़ की भेंट चढ़ी युवती को इन्साफ दिलाने को उतरे पौड़ी जन सड़कों पर

मृतक ज्योति की बहन ने बताया की शिक्षित समाज में आज सरकार की ओर से बेटियों को बचाने और बढ़ाने के लिए तमाम योजनाओं का प्रचार-प्रसार तो किया जा रहा है लेकिन आज भी बेटियों पर जुर्म किस तरह हावी है इसका ताजा उदाहरण पौड़ी की ज्योति है जिसे दहेज के लिए प्रताड़ित करने के बाद उसके साथ मारपीट कर मौत के घाट उतार दिया गया और अब इसे आत्महत्या करार देने का प्रयास किया जा रहा है।

परिजनों का आरोप है कि इस मामले में कानून और पुलिस प्रशासन दोनों ही मूकदर्शक बने हुए हैं। आज एक सप्ताह बीतने के बाद भी ससुराल पक्ष के किसी भी व्यक्ति के विरुद्ध मुकदमा पंजीकृत नहीं हुआ है और ना ही किसी के विरुद्ध कोई कार्यवाही हुई है जिससे साफ जाहिर होता है कि आज महिलाएं हमारे समाज में सुरक्षित नहीं हैं। उनका कहना है कि जिस समाज को हम शिक्षित बनाने का काम कर रहे हैं वह अभी भी अशिक्षित ही है। आज भी महिलाओं को दहेज के लिए प्रताड़ित कर उनकी हत्या कर दी जाती है और दोषियों को आज भी सजा देने में सरकार और कानून दोनों ही नाकामयाब साबित हो रहे हैं।

परिजनों की ओर से बताया गया है कि एक सप्ताह बीतने के बाद भी आरोपी पुलिस की गिरफ्त से बाहर है। वहीं वर पक्ष की ओर से राजनीतिक संबंधों के चलते उन्हें डराने धमकाने का काम किया जा रहा है। अब परिजनों का कहना है कि यदि जल्द उन्हें न्याय नहीं मिलता है तो दोनो भाई बहन देहरादून जा कर आत्मदाह कर देंगे।

Leave a Reply