पौड़ी में स्वरोज़गार की ओर प्रवासी – होमस्टे के 12 आवेदन स्वीकार

प्रवासी अब अपने जिले में रहकर ही प्रदेश के लिए कुछ करना चाहते हैं और स्वरोजगार अपनाकर अपनी आमदनी के साथ-साथ राज्य को भी राजस्व देने के लिए तत्पर है।

ख़ास बात:

  • प्रवासियों ने स्वरोजगार के लिए किए आवेदन
  • 11 प्रवासियों के आवेदनों को मिली सहमति
  • वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर्यटन स्वरोजगार योजना से लेंगे लाभ
  • जिलाधिकारी ने बैंकों से की लोन जल्द पूरी करने की अपील

पौड़ी: उत्तराखंड राज्य बनने के बाद से ही पौड़ी जिला उन सभी जिलों में सबसे आगे रहा है, जहां से सबसे अधिक पलायन हुआ है। मगर अब इसे जिलाधिकारी पौड़ी धिराज सिंह गब्र्याल की रुचि और तत्परता ही कहेंगे कि पिछले कुछ समय से जिले में स्वरोजगार के अवसर बड़े हैं और जनपद में पढ़े-लिखे लोग भी पहाड़ों में रोजगार तलाश रहे हैं। इसी कड़ी में जिलाधिकारी की अध्यक्षता में होमस्टे और वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर्यटन स्वरोजगार योजना से युवाओं को रोजगार मिल रहा है।

जिलाधिकारी ने बताया कि लॉक डाउन को देखते हुए प्रवासी राज्य सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं में आवेदन दे रहे हैं।  राज्य सरकार द्वारा चलाई जा रही योजना के तहत आज जिलाधिकारी ने होमस्टे के क्षेत्र में 12 आवेदनों को स्वीकार किया है। ये वे प्रवासी लोग हैं जो अब अपने जिले में रहकर ही प्रदेश के लिए कुछ करना चाहते हैं और स्वरोजगार अपनाकर अपनी आमदनी के साथ-साथ राज्य को भी राजस्व देने के लिए तत्पर है।

जिलाधिकारी पौड़ी ने बताया कि होमस्टे के लिए कुल 13 लोगों ने आवेदन किया था जिनमें से 12 के आवेदन स्वीकार किए गए हैं। इसी तरह वीर चंद्र सिंह गढ़वाली योजना के तहत 14 आवेदन आए थे जिनमें से 11 आवेदनों को स्वीकार किया गया है। उन्होंने सभी बैंकों को निर्देशित किया है कि स्वीकार किए गए सभी आवेदकों के लोन की प्रक्रिया को पूरा करें, जिससे यह लोग जल्द से जल्द अपना रोजगार शुरू कर सकें।

Leave a Reply

ये भी पढ़ें