Home टॉप 4 मुख्यमंत्रियों की गाड़ी में अलग-अलग समय में बैठे, लेकिन किसी में नहीं थी सीट बेल्ट: नितिन गडकरी

4 मुख्यमंत्रियों की गाड़ी में अलग-अलग समय में बैठे, लेकिन किसी में नहीं थी सीट बेल्ट: नितिन गडकरी

'मैंने तुरंत ड्राइवर को डांटा और पूछा कि सीट बेल्ट कहां है तो उसने कहा कि साहब पीछे लटका दिया है। मैंने कहा कि निकालो इसको। सीट बेल्ट नहीं लगाऊंगा तो गाड़ी नहीं चलेगी । सामान्य आदमी की छोड़िए यह मुख्यमंत्री की गाड़ी की बात है।'

4 मुख्यमंत्रियों की गाड़ी में अलग-अलग समय में बैठे, लेकिन किसी में नहीं थी सीट बेल्ट: नितिन गडकरी

नई दिल्ली । केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने एक इंटरव्यू के दौरान रोड सेफ्टी पर चर्चा करते हुए बताया कि वे 4 अलग-अलग राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ उनकी गाड़ी में बैठे। उन्होंने बताया एक चीज देखकर वह दंग रह गए। उन्होंने कहा कि मैंने चार अलग-अलग मुख्यमंत्रियों की गाड़ी पर सवारी की उनमें एक चीज कामन थी कि उनमें किसी में भी सीटबेल्ट नहीं थी।

उत्तराखंड: कोरोना को लेकर स्वास्थ्य विभाग ने जारी की एसओपी, पढ़ें निर्देश

उन्होंने बताया कि मैं गाड़ी में आगे बैठता हूं और सीट बेल्ट लगाता हूं। गडकरी ने बताया कि जब मैं गाड़ी में बैठा और सीट बेल्ट लगाने को हुआ तो देखा कि वहां पहले ही एक क्लिप लगी हुई है। मैंने तुरंत ड्राइवर को डांटा और पूछा कि सीट बेल्ट कहां है तो उसने कहा कि साहब पीछे लटका दिया है। मैंने कहा कि निकालो इसको। सीट बेल्ट नहीं लगाऊंगा तो गाड़ी नहीं चलेगी । सामान्य आदमी की छोड़िए यह मुख्यमंत्री की गाड़ी की बात है।

गडकरी ने बताया कि मार्केट में ऐसी क्लिप आने लगी है जिसको आप सीट बेल्ट की जगह लगा सकते हैं ताकि आवाज न आए। बड़े-बड़े लोग ऐसा करने लगे हैं। उस घटना के बाद मैंने आदेश दिया है इस तरह की क्लिप बनाना और बेचना अपराध होगा। नितिन गडकरी ने अपने छात्र जीवन का एक किस्सा सुनाते हुए बताया कि मैं स्टूडेंट लीडर हुआ करता था। उस समय विजय सुपर स्कूटर आया था। हम 4 दोस्त एक स्कूटर पर बैठा करते थे और जो सबसे पीछे बैठता था उसको सिखा रथा कि जहां कहीं पुलिस दिखाई दे वह किसी चीज के नंबर प्लेट ढंक दे ताकि पुलिस न देख पाए। जवानी के दिनों में मैंने भी नियम तोड़े हैं मुझे बताते हुए अच्छा नहीं लग रहा है।

नितिन गडकरी ने अपने मंत्रालय के कामकाज से लेकर पराली पॉल्यूशन और ट्रैफिक जैसे मुद्दों पर विस्तार से अपनी बात रखी। गडकरी ने कहा था कि मैं जो कहता हूं वह करके भी दिखाता हूं वरना कहता ही नहीं हूं। अगले दो-तीन महीने में आप दिल्ली से देहरादून और हरिद्वार सिर्फ दो घंटे में जा सकेंगे। पराली से बायो विटामिन बनाने की मशीन भी लॉन्च होने वाली है। नितिन गडकरी ने अपने खानपान और लाइफस्टाइल के बारे में भी विस्तार से जिक्र किया और बताया कि किस तरीके से कभी उनका वजन 135 किलो हुआ करता था जिसे 89 किलो कर लिया है। हर दिन योग और एक्सरसाइज जरूर करते हैं।

 

You may also like