Newz Studio

ख़बर उत्तराखंड की

गणतंत्र दिवस | घाटी में बदली-बदली दिख रही जम्हूरियत, पूर्व आंतकी ने घर पर फहराया तिरंगा

1 min read
शेर खान नाम का यह आतंकी हरकत-उल-जिहाद-ए-इस्लामी का आतंकवादी था और 1998 और 2006 के बीच एक खूंखार नाम था। उसने 2006 में आत्मसमर्पण किया था और 2019 में रिहा होने से पहले 13 साल जेल में बिताए।
गणतंत्र दिवस | घाटी में बदली-बदली दिख रही जम्हूरियत, पूर्व आंतकी ने घर पर फहराया तिरंगा

Image Source: Social Media

नई दिल्ली । देश भर में गुरुवार को गणतंत्र दिवस धूमधाम से मनाया जा रहा है। वहीं इससे पहले बुधवार को 74वें गणतंत्र दिवस की पूर्व संध्या पर जम्मू-कश्मीर के किश्तवाड़ जिले के सेगडी भाटा गांव में एक पूर्व आतंकवादी ने अपने घर पर तिरंगा फहराया।

शेर खान नाम का यह आतंकी हरकत-उल-जिहाद-ए-इस्लामी का आतंकवादी था और 1998 और 2006 के बीच एक खूंखार नाम था। उसने 2006 में आत्मसमर्पण किया था और 2019 में रिहा होने से पहले 13 साल जेल में बिताए।

बाबा बागेश्वर को पुलिस की क्लीनचिट, नहीं मिला अंधविश्वास फैलाने के सबूत

शेर खान का कहना है कि मुझे पाकिस्तानी आतंकवादियों ने अगवा कर लिया था और जब मैं 20 साल का था तब उन्हें अपने रैंक में शामिल कर लिया था। जल्द ही उसका आतंकवाद से मोहभंग हो गया और पहला मौका मिलने पर मैंने छह अन्य लोगों के साथ 2006 में अवंतीपोरा (कश्मीर) में सेना के सामने आत्मसमर्पण कर दिया।”

अपनी दूसरी पत्नी शाहीना और दो बेटियों सुमैया (19) और खलीफा बानो (17) के साथ रहने वाले शेर खान ने पहली बार अपने घर पर तिरंगा फहराया है। उसने बताया कि तीन साल पहले जेल से छूटने के बाद मैं गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल होने के लिए मुगल मैदान जाया करता था।