देश के 116 जिलों के 259 स्थानों पर कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन शुरू

केंद्र सरकार ने 2 जनवरी 2021 से देश के हर राज्य में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन का फैसला किया है।

नई दिल्ली | भारत के लिए नया साल-2021 अपेक्षित सौगात लेकर आया है। देश में घातक वायरस कोरोना से निजात के लिए वैक्सीन की तैयारी पूरी हो गई है। अब वैक्सीनेशन शुरू होने की तारीख के ऐलान से पहले सभी जरूरी तैयारियों को परखना जरूरी है। इसके लिए केंद्र सरकार ने 2 जनवरी 2021 से देश के हर राज्य में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन का फैसला किया है। केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय के मुताबिक सभी राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के कुल 116 जिलों में 259 जगहों पर आज कोविड-19 वैक्सीन के लिए ड्राई रन किया जाएगा।

दिल्ली के जीटीबी अस्पताल में भी कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन चल रहा है। यहां पर स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन पहुंचे हैं। ड्राई रन को लेकर अस्पताल में पूरी तैयारी की गई है। दिल्ली के दरियागंज में कोरोना वैक्सीन का ड्राई रन शुरू हो गया है। इसके अलावा दिल्ली के द्वारका स्थित वेंकेटेश्वर हॉस्पिटल में भी ड्राई रन चल रहा है। केंद्रीय मंत्री डॉ. हर्षवर्धन उत्तर पूर्वी दिल्ली के जीटीबी अस्पताल पहुंचे हैं। वो यहां कोरोना वैक्सीन की तैयारियों का जायजा लेंगे।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने शनिवार को बताया कि केंद्र सरकार के निर्देश के अनुसार, सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों ने कोरोना वैक्सीन के ड्राई रन की पूरी तैयारी की हुई है। गौरतलब है कि ड्राई रन के दौरान टीकाकरण अभियान से जुड़ी पूरी प्रक्रियाओं का पालन इस तरह किया जाता है, जैसे वास्तव में टीकाकरण अभियान चलाया जा रहा हो।

महाकुम्भ ’21 | हरिद्वार की दर-ओ-दीवार को सजाएगा ‘पेंट माय सिटी’ अभियान

इससे कोरोना वैक्सीन को लेकर बनाया गया को-विन ऐप बाहरी माहौल में किस तरह काम करता है, यह भी पता चल पायेगा और टीकाकरण की पूरी योजना तथा योजना के कार्यान्वयन में क्या बाधायें आती हैं, उनकी पहचान करके, उनसे निपटने के तरीके भी बनाये जा सकेंगे। इससे विभिन्न स्तर पर टीकाकरण अभियान से जुड़ने वाले लोगों का भी हौसला बढ़ेगा। देश में पहले चरण का ड्राई रन आंध्रप्रदेश, असम, गुजरात और पंजाब में 28 और 29 दिसंबर को किया गया था।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने बैठक में मौजूद अधिकारियों से कहा कि शहरों में वैक्सीन के पहुंचने, अस्पताल तक जाने, फिर डोज देने की पूरी प्रक्रिया का पालन किया जाएगा, यह एक अभ्यास की तरह है। डॉक्टर हर्षवर्धन के अनुसार राज्य सरकारों, जिला अधिकारियों और प्रखंड स्तर पर इस संबंध में निर्देश दिए जा चुके हैं। उन्होंने आग्रह किया कि अभियान से जुड़े सभी अधिकारी सुनिश्चित करें कि टीकाकरण से जुड़े स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से जारी दिशा निर्देशों का पालन किया जाए।

Leave a Reply

ये भी पढ़ें