नई दिल्ली । मोदी सरकार ने देशभर की लाखों आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं को कोविड-19 ड्यूटी के दौरान बीमा की सुविधा उपलब्ध कराने का फैसला किया है। केंद्र सरकार अब इनके लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत 50 लाख रुपये का बीमा कवर देगी। यह जानकारी केंद्र सरकार के महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के अधिकारियों ने दी है। महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के सूत्रों ने बताया है क‍ि देश की 13 लाख से अधिक आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और 11 लाख से अधिक सहायिकाओं को 50 लाख रुपये का बीमा कराया जाएगा।

कोरोना काल में आंगनबाड़ी और आशा कर्मियों ने ड्यूटी पर रहते हुए जोखिम भत्ता और बीमा कवर की मांग की थी। टीकाकरण अभियान को गति देने में आंगनवाड़ी कर्मियों की बड़ी भूमिका है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने मंगलवार को कहा कि कोविड-19 से संबंधित कर्तव्यों में शामिल आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं और सहायिकाओं को अब प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत 50 लाख रुपये का बीमा कवर दिया जाएगा।

महिला एवं बाल विकास मंत्रालय के अधिकारी ने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका जो कोविड-19 जागरुकता, निगरानी अभियान और घर-घर राशन वितरण जैसी गतिविधियों में शामिल हैं, उन्हें योजना के तहत कवर किया जाएगा। अधिकारी ने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और सहायिका 11 मार्च, 2020 से शुरू हुई महामारी की पूरी अवधि के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज के तहत 50 लाख रुपये के बीमा कवर के तहत कवर किए गए हैं।

पैकेज में कोविड-19 के कारण जीवन की हानि और कोविड ड्यूटी से संबंधित कर्तव्यों के दौरान आकस्मिक मृत्यु शामिल है। देश में करीब 13.29 लाख आंगनबाड़ी कार्यकर्ता और 11.79 लाख सहायिकाएं हैं। सूत्रों ने कहा कि जिला प्रशासन को आंगनबाड़ी और एएनएम कार्यकर्ताओं की पहचान करने के लिए कहा गया है जो कोविड-19 से संबंधित कार्यों और कर्तव्यों में शामिल हैं। राज्यों को इसकी सूचना दे दी गई है। इसे लागू करना उन पर निर्भर है। केंद्र यह सुनिश्चित कर रहा है कि पैकेज के तहत राज्यों को सहायता दी जाए।

Leave a Reply

ये भी पढ़ें