दिसम्बर से नहीं आई पीआरडी जवानों की सैलरी

ये पीआरडी के जवान लचर व्यवस्था के कारण लाचार हैं। मगर तहसील प्रशासन की लापरवाही के कारण इन जवानों को दिसंबर से अब तक का वेतन नहीं मिल पाया है।

रिपोर्ट: मुकेश बछेती

ख़ास बात:

  • पीआरडी के जवान जूझ रहे परेशानियों से
  • दिसम्बर से नहीं आई तनख्वाह
  • तहसील प्रशासन की लापरवाही के शिकार कोरोना वॉरियर
  • उप-जिलाधिकारी ने लगाई फटकार  

पौड़ी: एक ओर इस समय पूरा देश कोरोना संक्रमण से जूझ रहा है और कोरोना वारियर्स इस भयानक महामारी को रोकने के लिए अपनी ड्यूटी निभा रहे हैं, ऐसे में इस महामारी में ड्यूटी पर तैनात प्रांतीय रक्षक दल (पीआरडी) के जवान दिसम्बर से अपना वेतन ना मिलने के कारण बहुत सी परेशानियों से जूझ रहे हैं।

ये पीआरडी के जवान लचर व्यवस्था के कारण लाचार हैं। ये जवान कोरोना महामारी  के दौर में भी ड्यूटी पर पूरी मुस्तैदी से तैनात हैं और अपनी ड्यूटी को बखूबी निभा भी रहे हैं। मगर तहसील प्रशासन की लापरवाही के कारण इन जवानों को दिसंबर से अब तक का वेतन नहीं मिल पाया है।

वेतन ना मिलने के कारण इनको अपने परिवार के पोषण में भी अब दिक्कतें होने लगी है। जब मामला हमारे संज्ञान में आया तो हमने पूरे मामले से उप-जिलाधिकारी अंशुल सिंह को अवगत कराया।

उप-जिलाधिकारी ने मामले का तत्काल संज्ञान लेते हुए संबंधित अधिकारियों को जमकर फटकार भी लगाई और अधिकारियों को साफ-साफ निर्देशित कर दिया कि आगे से ऐसे किसी भी कर्मचारी का वेतन में विलंब नहीं होना चाहिए, जो दिन रात एक करके इस प्रकार की ड्यूटी में लगे हुए रहते हैं।

उन्होंने पीआरडी के जवानों को आश्वासन दिया है कि आने वाले दो-तीन दिनों के अंदर ही इनके खातों में तनख्वाह भेज दी जाएगी। इसके साथ ही उन्होंने संबंधित अधिकारियों को भी निर्देशित कर दिया है कि आइंदा इस प्रकार की लापरवाही को कत्तई बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और अगर इस प्रकार की कोई लापरवाही पाई जाती है तो संबंधित अधिकारी पर कार्यवाही भी की जाएगी।

Leave a Reply