अर्थ जगत के अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर पिछड़ रहा है भारत

नोटबंदी और डिजिटल अर्थव्यवस्था के नाम पर भले ही केन्द्र सरकार भारत की अर्थव्यवस्था को नई ऊंचाइयों पर ले जाने का दावा कर रही हो, लेकिन अंतर्राष्ट्रीय मंचों पर भारत की अर्थव्यवस्था लगातार पिछड़ती जा रही है. समावेशी विकास में विश्व आर्थिक मंच ने जहां भारत को पाकिस्तान से भी नीचे 60वें स्थान पर रखा है, वहीं वैश्विक सलाहकार संस्था ने कहा है कि तीन साल पहले भारत में निवेश को लेकर जितना उत्साह था उसमें अब कमी आई है.

विश्व आर्थिक मंच यानी इंक्लूसिव ग्रोथ एंड डेवलपमेंट (डब्ल्यूईएफ) रिपोर्ट की ताजा समावेशी विकास सूची (आईडीआई) में भारत को नेपाल और पाकिस्तान से भी नीचे 60वां स्थान मिला है. डब्ल्यूईएफ ने दुनिया की अग्रणी 79 विकासशील अर्थव्यवस्थाओं की यह सूची जारी की.

Leave a Reply

ये भी पढ़ें