हरीश रावत के खिलाफ स्टिंग पर राजनीति

हरीश रावत ने कहा कि यदि सीबीआई उनको एरेस्ट करती है या फिर उन पर एफआईआर दर्ज होती है तो कार्यकर्ता अपनी पॉलिटिकल रिस्पांस दे सकते हैं।

देहरादून: नैनीताल हाई कोर्ट में 20 सितंबर को पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत के खिलाफ स्टिंग मामले की सुनवाई है, जिसको लेकर कांग्रेसी एकजुट दिखने लगे । इसको लेकर पूर्व सीएम हरीश रावत ने अपने कार्यकर्ताओं से अनुरोध किया है कि कोई भी कार्यकर्ता नैनीताल हाईकोर्ट नही आएगा।

साथ ही हरीश रावत ने कहा कि यदि सीबीआई उनको एरेस्ट करती है या फिर उन पर एफआईआर दर्ज होती है तो कार्यकर्ता अपनी पॉलिटिकल रिस्पांस दे सकते हैं, जो उन्हें उचित लगे । हरीश ने कहा कि वो कोर्ट की शरण में एक प्रार्थी के रूप में जायेंगे और जो भी कोर्ट का फैसला होगा उन्हें स्वीकार होगा ।

हरीश रावत के स्टिंग मामले की सुनवाई पर सीएम त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने कहा कि सरकार किसी भी तरह से बदले की भावनाओं से काम नहीं करती है । साथ ही सीएम ने कहा कि यदि कांग्रेस उन पर आरोप लगाना चाहती है तो वो लगा सकती है, जिसकी कि उन्हें कोई भी चिंता नहीं है। सीएम ने कहा कि सरकार ने हरीश रावत के साथ बदले की भावनाओं से कोई भी काम नहीं किया है ।

Leave a Reply

ये भी पढ़ें