पर्यटन विभाग की समीक्षा बैठक

बैठक में उत्तराखंड में पर्यटन विभाग की तमाम लंबित योजनाओं पर विस्तृत चर्चा की गई, जिसमें खास तौर से 13 ज़िले, 13 डेस्टिनेशन और रोपवे योजनाओं पर चर्चा हुई ।


ख़ास बात

  • 13 ज़िले, 13 डेस्टिनेशन और रोपवे योजनाओं पर चर्चा ।
  • थीमबेस्ड डेस्टिनेशन का विकास किया जाना है, इसके लिये सुनियोजित योजना बनाई जाए: सी एम
  • जिलाधिकारियों को 50-50 लाख रूपये की धनराशि निर्गत।

देहरादून: शुक्रवार को सचिवालय में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र रावत की अध्यक्षता में पर्यटन विभाग की समीक्षा बैठक की गई। बैठक में विभागीय मंत्री और तमाम विभागीय आला अधिकारी मौजूद थे । बैठक में उत्तराखंड में पर्यटन विभाग की तमाम लंबित योजनाओं पर विस्तृत चर्चा की गई, जिसमें खास तौर से 13 ज़िले, 13 डेस्टिनेशन और रोपवे योजनाओं पर चर्चा हुई ।

समीक्षा करते हुए मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र ने निर्देश दिये कि प्रत्येक जनपद में जो नये थीमबेस्ड डेस्टिनेशन का विकास किया जाना है, इसके लिये सुनियोजित योजना बनाई जाए । उन्होनें कहा कि नये डेस्टिनेशन के लिए मास्टर प्लान भी जल्द से जल्द बनाये जाएँ और यह सुनिश्चित किया जाए कि कार्य समय रहते धरातल पर दिखे।

13 डिस्ट्रिक्ट, 13 डेस्टिनेशन के लिए पर्यटन विभाग द्वारा 6 तकनीकी परामर्शदाता इम्पैनल किये गये हैं। प्रथम चरण में कार्यों का चिन्हीकरण किया गया है। जिलाधिकारियों को 50-50 लाख रूपये की धनराशि निर्गत की गई है। इसके अलावा मुख्यमंत्री ने मसूरी और सुरकण्डा देवी रोपवे के निर्माण में तेजी लाने के भी निर्देश दिये।

पूर्णागिरी रोपवे का कार्य प्रगति पर है। केदारनाथ रोपवे के लिए विभाग द्वारा आंतरिक व सिस्मिक सर्वे कराया गया है। नैनीताल व यमुनोत्री रोपवे के लिए भी कार्यवाही गतिमान है। इस वर्ष अभी तक 27 लाख 35 हजार श्रद्धालु चारधाम यात्रा पर आ चुके हैं।

Leave a Reply

ये भी पढ़ें