नकली नोट बनाने का भंडाफोड़

पकड़े गए शातिरों से नकली भारतीय करेंसी ₹6,49 हज़ार सहित दो प्रिंटर, चार प्रिंटिंग कार्टेज, एक पिस्टल और चार जिंदा कारतूस व एक बुलेट मोटरसाइकिल भी बरामद की है। फिलहाल इस पूरे धंधे का मास्टरमाइंड संजय शर्मा अभी फरार चल रहा है।

ख़ास बात:

  • रु०6,49,000 के नकली नोट व नकली नोट छापने के समान के साथ 02 अभियुक्तों को पुलिस ने किया गिरफ्तार।
  • पकड़े गए दोनों अभियुक्त मूल रूप से उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं।

देहरादून: पुलिस ने नकली नोटों का व्यापार करने वाले दो शातिर अभियुक्तों को थाना क्लेमेंटटाउन क्षेत्र से गिरफ्तार किया है। पकड़े गए शातिरों से नकली भारतीय करेंसी ₹6,49 हज़ार सहित दो प्रिंटर, चार प्रिंटिंग कार्टेज, एक पिस्टल और चार जिंदा कारतूस व एक बुलेट मोटरसाइकिल भी बरामद की है। पकड़े गए दोनों शातिर लंबे समय से अपने साथी संजय शर्मा के साथ दिल्ली से नकली नोट छापने का धंधा कर रहे थे। फिलहाल इस पूरे धंधे का मास्टरमाइंड संजय शर्मा अभी फरार चल रहा है।

पुलिस को सूचना मिली थी कि दो लड़के नकली भारतीय करेंसी को लेकर देहरादून आ रहे हैं जो कि नकली करेंसी का व्यापार करते हैं सूचना पर पुलिस ने सघन चेकिंग अभियान के दौरान दोनों को गिरफ्तार कर लिया। पकड़े गए दोनों अभियुक्त मूल रूप से उत्तर प्रदेश के रहने वाले हैं।

पकड़े गए दोनों अभियुक्तों  ने बताया कि वह दिल्ली से नकली करेंसी छाप कर मंगेलपुरी, रुड़की, हरिद्वार में व्यापार करने के लिए आए थे। वह नकली नोट कभी दिल्ली के किसी होटल गेस्ट हाउस में बैठकर या फिर इस पूरे मामले के मास्टरमाइंड संजय शर्मा के घर पर बैठकर छापते थे। करीब 2 महीने पहले संजय शर्मा इनको दिल्ली में मिला था जिसके बाद तीनों मिलकर नकली नोट बनाने का धंधा करने लगे। पकड़े गए अभियुक्त राजेश गौतम कि वर्ष 2015 में नोएडा में लूट के दौरान पुलिस मुठभेड़ में बाएं पैर में भी गोली लगी थी।

Leave a Reply

ये भी पढ़ें