देवप्रयाग में शराब फैक्ट्री के खिलाफ धरना प्रदर्शन

“उत्तराखंड में पूरी तरह से रोजगार खत्म हो रहा है, क्या सरकार चाहती है कि शराब की फैक्ट्री से रोजगार बढ़ाएं?”

टीम न्यूज़ स्टूडियो

हरिद्वार: देवप्रयाग में सरकार द्वारा शराब की फैक्ट्री लगाए जाने के विरोध में साधु-संत और हिंदुओं की कई संस्थाएं सामने आ गई हैं I अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठे संतों का कहना है कि उत्तराखंड देवभूमि है यहाँ शराब की फैक्ट्री लगाना गलत है I अनशन के आज 2 दिन हो जाने पर भी अभी तक प्रशासन कि और से किसी प्रकार का कोई वक्तव्य अथवा सन्देश नहीं आया है I

पत्रकारों से बातचीत के दौरान महंत श्री विनोद गिरी ने कहा कि जिस जगह पर फैक्ट्री लगाई जा रही है वहां से सारी गंदगी गंगा में जाएगी व जितना भी इस सीवर का गंदा पानी है, वह गंगा में जाकर मिलेगा I उन्होनें कहा कि – “आने वाले 2021 के कुंभ यहाँ दूर-दूर से महात्मा लोग आयेंगे, तो वो अमृत-स्नान करने आयेंगे, न कि सुधा-स्नान करने I से साधु-संत और श्रद्धालु अमृत जल में गंगा स्नान करने आएंगे ना कि सीवर के पानी से दूषित जल में I

ज्ञात हो कि 2021 में लगने वाला कुंभ नजदीक आ गया है I संतों का कहना है कि कुम्भ कार्य के बजाय  सरकार सिर्फ शराब की फैक्ट्री लगाने में ध्यान दे रही है I विरोध करने वाले संतों कि मांग है कि सरकार जल्द से जल्द इस फैक्ट्री के कार्य को बंद करे I साथ ही मांग पूरी न होने पर, संतों ने कहा कि वे जल समाधि लेने पर विवश होंगे I

“संतों व संस्थाओं द्वारा तेरह अखाड़ों और सरकार को पत्र भेजे गए हैं I मगर अभी तक उन पत्रों का कोई जवाब नहीं आया है और ना ही अभी तक सरकार की तरफ से कोई प्रतिनिधि नहीं आया है I हमारा यह अनशन लगातार जारी रहेगा जब तक हमारी मांगे पूरी नहीं होगी” – महंत गिरी ने कहा I

अब इनका कहना है कि जब तक सरकार अपना फैसला नहीं बदलती है तब तक वह आंदोलन की राह से पीछे नहीं हटेंगे I

अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठे संतों के समर्थन में हिंदुओं की कई संस्थाएं भी साथ आई हैं I हिंदू युवा सेना के राष्ट्रीय अध्यक्ष अन चेतना महाराज का कहना है कि जिस तरह से गुजरात और बिहार में शराबबंदी है, वैसे ही उत्तराखंड देवभूमि हैं और यहां पर भी शराब पर प्रतिबंध लगा देना चाहिए I अगर हमारी मांगे नहीं मानी जाती है तो हम पूरे भारतवर्ष में आंदोलन करने पर मजबूर होंगे I

ब्राह्मण महासभा के अध्यक्ष अधीर कौशिक ने कहा कि सरकार द्वारा शराब की फैक्ट्री पर 40% की सब्सिडी दी जा रही है I “उत्तराखंड में पूरी तरह से रोजगार खत्म हो रहा है, क्या सरकार चाहती है कि शराब की फैक्ट्री से रोजगार बढ़ाएं?” उन्होनें प्रश्न किया I

Leave a Reply

ये भी पढ़ें