देहरादून: प्रशासन की ओर से बारम्बार दिए गए निर्देशों के बावजूद शहर में कई लोग बाज़ नहीं आ रहे। शहर में जहां-तहां लोग आपको पुलिस व प्रशासन के साथ अपनी ज़रूरतों और ज़रूरी कामों का हवाला देते नज़र आ जायेंगे। इसके साथ ही शहर में गैर-ज़रूरी दुकानें भी बहती गंगा में हाथ धोने से बाज़ नहीं आ रहीं और गैर जिम्मेदाराना रवैया दिखा रही हैं। बीते गुरुवार भी शहर का दिल कहे जाने वाले घंटा घर में गेलोर्ड बेकरी खुली हुई थी। पर उसी दौरान निरीक्षण पर निकले डीआईजी अरुण मोहन जोशी ने जब खुली हुई बेकरी में लोगों की भीड़ देखी तो उन्होंने शहर कोतवाल की क्लास लगा दी। मौके पर न ही दुकान के बाहर सोशल डिस्टेंसिंग के लिये गोले बने थे ना ही होम डिलीवरी व अन्य नियमों के पालन का बोर्ड-बैनर था।

डीआईजी की फटकार के बाद तुरंत ही सब हरकत में आ गए। जहाँ एक तरफ़ दुकान मालिक गोले बनता नजर आया, वहीं देहरादून के विभिन्न इलाकों में भी चेकिंग तेज़ कर दी गयी। बेकरी के मालिक समेत कल लॉक डाउन उल्लंघन के लिए कई और लोगों पर भी मुकदमा दर्ज किया गया।

कोरोना संक्रमण से शहर को बचाने के लिए प्रशासन बार-बार लॉक डाउन को गंभीरता से लेने की अपील कर रहा है। ऐसे में नागरिकों को चाहिए कि इसकी पूरी ज़िम्मेदारी प्रशासन और सरकार के ऊपर न डाल कर खुद भी अनुशासन और ज़िम्मेदारी के साथ नियमों का पालन करें और प्रशासन का सहयोग करें क्योंकि ये नियम हमारे ही बचाव के लिए बनाये गए हैं।

Leave a Reply

ये भी पढ़ें